• Share
  • औकाद हि क्या मेरी, एक अखबार हू , लेकिन शहर में आग लगाने के लिये काफी हू .

    - tejaswita , Sangamner